जवाहरलाल नेहरु उन्नत वैज्ञानिक अनुसंधान केन्द्र
 
 

 

गृह हमारे बारे में जनेउवैअकें के बारे में
जनेउवैअकें के बारे में 
 
सापेक्षिक / तुलनात्मक रूप से हम तो अभी युवा हैं परंतु विज्ञान की विभिन्न शाखाओं में अनुसंधान संस्था के रूप में प्रसिद्ध हैं । हमारा अनिवार्य अंतिम लक्ष्य है - विश्व-स्तरीय वैज्ञानिक अनुसंधान का अनुसरण एवं उन्नयन करना एवं विज्ञान एवं अभियांत्रिकी के सीमांतों में प्रशिक्षण प्रदान करना । केन्द्र की स्थापना वर्ष 1989 में भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा पंडित जवाहरलाल नेहरु की जन्मशताब्दी के स्मरणार्थ की गई है । परंतु, हमारी भारी - वृद्धि तो पिछले दशक में हुई है ।

हमारा अल्प आकार (40 संकाय सदस्य, जो विज्ञान की विभिन्न शाखाओं में फैले हुए हैं) ही हमारे लिये एक सुविधा रही है; दूर फैले प्रयोगालयों में पृथकृत नहीं हैं, परंतु हमारे रसायनज्ञ, भौतिकविद, जैविकविद तथा अभियंता दिन भर में चाहे वह संगोष्ठियों सें हों, या ग्रंथालय; उपाहार-आंतरिक या कार्य पर आते-जाते बसों में मिलते-जुलते रहे हैं (संपर्क में आते रहते हैं); यही विज्ञान की अंतर्शाखाओं के सहयोग की भावना को संवर्धित करता है जो जवाहरलाल नेहरु उन्नत वैज्ञानिक अनुसंधान केन्द्र का एक हालमार्क रहा है ।

हमारे युवा तथा गतिशील संकायों के अतिरिक्त, हमारे यहाँ 150 प्रतिभासंपन्न तथा ओजस्वी स्नातक छात्र हैं तथा सन्नद्ध प्रयोगात्मक संगणनात्मक तथा अंतर्संरचनात्मक सुविधाएँ उपबबमध बैं । हम अब एक मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय है जोस्नातकोत्तर तथा Ph.D उपाधि करतै हैं ।

केन्द्र के अनुसंधानकर्ता सात एककों में विभक्त / वर्गिकृत हैं - रासायनिकी एवं पदार्थ भौतिकी, अभियांत्रिकी यांत्रिकी, विकासवादी एवं जैविकीय जैविकी, आण्विक जैविकी एवं आनुवंशिकी, सैद्धांतिक विज्ञान, शैक्षणिक प्रौद्योगिकी एवं भूगतिकी । हमारे दो और एकक हमारे हमारे परिसर के yeujबाहर भारतीय विज्ञान संस्थान में स्थित हैं वे हैं - रासायनिकी जैविकी एवं संघनित पदार्थ सैद्धांतिक एकक। यद्यपि, अवश्य ही, मात्रात्मक रूप से वैज्ञानिक निष्पादन को संख्यात्मक संकेतों से व्यक्त करना कठिन होता है (प्रकाशनों की संख्या, सम्मान, अनुदान प्रस्तुत एकास्वाधिकार आदि) फिर भी, केन्द्र पर विज्ञान समृद्धि कर रहा है । पिछले कुछ वर्षों में, केन्द्र के संकाय सदस्यों ने आपने अनुसंधान लेखों को नेचर, नेचर मेडिसिन साइन्स, इवोलूशन, अमेरिकी रासायनिक सोसाइटी की जर्नल, अंगेवांडेट केमी, फ्लूइड मेकानिक्स जर्नल तथा फिज़िकल रिय्वू लेटर्स आदि अत्यधिक प्रतिष्ठित वैज्ञानिक जर्नलों में प्रकाशित कराया है। केन्द्र के संकायों के कार्यों को विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है।

शैक्षणिक अधिक्रमिक कार्यकलापों की श्रेणी को सक्रिय समर्थन देने पर व्यस्त रहे हैं, प्रति वर्ष हमारा अत्यंत प्रतियोगात्मक ग्रीष्म अनुसंघान शिक्षा वृत्ति कार्यक्रम देश भर के अत्यंत प्रतिभासंपन्न स्नातकपूर्व छात्रों के लिये आतिथेय बना हुआ है, शैक्षणिक प्रौद्योगिकी एकक, अनेक प्रकार की शैक्षिक सहायक सामग्रियों तथा शैक्षिक सामग्रियों के उत्पादन करता है, भारत भर में हम विश्वविद्यालयों में अल्पावधि के पाठ्यक्रमों का आयोजन एवं सीखने / अध्यापन कार्य भी करते हैं, तथा हमारे POCE & POBE कार्यक्रमों के अंग के रूप में हम उदीयमान, युवा रसायनों तथा जैविकविदों को गहन रूप से प्रशिक्षण प्रदान करते हैं ।

हमारे संकाय एवं छात्र विशाल बेंगलूर क्षेत्र में स्थित अनेकों अनुसंधान संस्थाओं के विज्ञानियों के साथ अंर्तक्रियाओं से लाभान्वित हो रहे हैं । ज ने उ वै अं कें पर बौद्धिक वातावरण में संसार भर के नियमित आगंतुक के आगमनों से धाराओं में नये प्राण भर दिये हैं, जिन्होंने संगोष्ठियों, सम्मेलनों तथा ग्रीष्म स्कूलों की उत्तेजित वैज्ञानिक चर्चाओं के प्रति आपना योगदान दिया है ।

हम यह विश्वास रखते हें कि वैज्ञानिक अनुसंधान तथा शिक्षा में उत्कृष्टता लाने में हमारे पास आवश्यक अंश (उपादान) स्थित हैं तथा आगामी वर्षों में और भी वृद्धि करने के इच्छुक हैं ।

 



 
2012, जवाहरलाल नेहरु उन्नत वैज्ञानिक अनुसंधान केन्द्र. Supported by W4RI