समितियाँ

प्रकोप (भावावेश) प्रतिरोधी

नाम पद
प्रो. जी.यू. कुलकर्णी अध्यक्ष (चेयर)
प्रो. सुधीर के. दास सदस्य
प्रो. टी.एन.सी. विद्या सदस्य
सुश्री हेमलता महीषी सदस्य
उप निरीक्षक, अमृतहल्ली, पुलीस चौकी सदस्य
सुश्री अनीता जेम्मी फ्रान्सिस सदस्य
श्री सुहास के.टी सदस्य
डॉ. पन्नीर सेल्वम के सदस्य-सचिव

कार्यस्थल पर महिला यौन-उत्पीड़न (आईसीसी)

NAME POSITION
प्रो. शोभना नरसिंहन अध्यक्ष (चेयर)
श्रीमती हेमलता महीषी सदस्य
डॉ. रंजनी विश्वनाथ सदस्य
प्रो. मेहबूब आलम सदस्य
प्रो. राजेश गणपति सदस्य
श्रीमती सुमा सदस्य
श्री जोयदीप देब सदस्य-सचिव
  Committee and Guidelines

आंतरिक शिकायत समिति

NAME POSITION
प्रो. हेमलता बलराम अध्यक्ष (चेयर)
प्रो. के.आर. श्रीनिवास

सदस्य

श्री संपद पात्रा

सदस्य
श्री के भास्कर राव

सदस्य

श्रीमती चित्रा सी.एस. सदस्य-सचिव

विद्यार्थी शिकायत समाधान समिति

अध्यक्ष, एमबीजीयू अध्यक्ष (चेयर)
सहयोगी निदेशक आईसीएमएस सदस्य
वार्डन सदस्य
अध्यक्ष, ईएमयू सदस्य
परामर्शी चिकित्सा अधिकारी सदस्य
विद्यार्थी-प्रतिनिधि (पुरुष) सदस्य
विद्यार्थी-प्रतिनिधि (महिला) सदस्य
प्रशासनिक अधिकारी सदस्य
समन्वयक (शैक्षिक- वि तथा वि) सदस्य-सचिव

यह समिति विद्यार्थी द्वारा प्रस्तुत शिकायतों को देखेगी तथा इसके गुणदोषों की परीक्षा करेगी तथा परिसर पर सामना किए गए उत्पीड़न के मामलों कोनिभाने के लिए समर्थ है।

शिकायत प्रस्तुत करने की कार्यपद्धति


कोई भी विद्यार्थी, यथार्थ (सही) शिकायत के साथ समन्वयक (शैक्षिक) से व्यक्तिगत रूप से मिल सकता है अगर कोई भी विद्यार्थी व्यक्तिगत रूप से शिकायत देना नहीं चाहता है, तो ऐसी शिकायत वे लिखित में कणाद भवन के शैक्षिक कार्यालय में रखी गई पत्र-पेटी / सुझाव-पेटी में डाल सकते हैं शिकायतें -मेल-pselvam@jncasr.ac.in द्वारा समन्वयक को भेजी जा सकती हैं

उद्देश्य

  • जनेउवैअकें में नामांकित विद्यार्थियों तथा साथ ही जनेउवैअकें में प्रवेश प्राप्त करनेवाले विद्यार्थियों से संबंधित विद्यार्थी सुख-सुविधाओं से संबंधित कुछ शिकायतों के समाधान करने हेतु मंच उपलब्ध कराना

  • प्रवेश-प्रक्रिया, अपारदर्शी या अन्य अनुचित मूल्यांकन प्रक्रियाओं, विद्यार्थियों के आरोपित वर्णभेद आदि से संबंधित शिकायतें प्रस्तुत करना

समाधान

ऑफ-लाइन/ऑन लाइन से शिकायत प्राप्त होने पर विद्यार्थी शिकायत समाधान समिति द्वारा शिकायत की सुनवाई के लिए एक दिनांक निर्धारित किया जाएगा, जिसकेविरुद्ध शिकायत की गई है तथा शिकायत-ग्रस्त विद्यार्थी, उन्हें इस दिनांक के बारे में सूचित किया जाएगा तथा उन्हें सुनवाई में उपस्थित होने के लिए अनुरोध किया जाएगा

शिकायत-ग्रस्त विद्यार्थी, व्यक्तिगत रूप से उपस्थित हो सकता है अथवा किसी भी समर्थक उपलब्ध साक्ष्यों के साथ अपने मामले को प्रस्तुत करने हेतु अपने किसी भी प्रतिनिधि को प्राधिकृत कर सकता है शिकायत के समाधान के लिए विद्यार्थी शिकायत समाधान समिति के प्रति प्रशासन अपना सहयोग प्रदान करेगा

यह समिति अपने निष्कर्षों की रिपोर्ट अध्यक्ष, केन्द्र के प्राधिकारी को प्रस्तुत करेगी।

जब परिवाद (शिकायत) पूर्णरूप से (मिथ्या) झूठा या क्षुद्र (असार) पाया जाए तो यह समिति परिवादी (शिकायती) के विरुद्ध समुचित कार्रवाई के लिए सिफारिश कर सकती है

व्याप्ति

निम्नलिखित में से किसी भी विषय पर विद्यार्थियों से प्राप्त लिखित / ऑनलाइन शिकायतों के बारे में यह समिति कार्य करेगी :

  • शैक्षिक विषय (पाठ्यक्रम), प्रयोगालय विषय (अनुसंधान)
  • वित्तीय विषय
  • छात्रावास विषय
  •  अन्य विषय (यौन-उत्पीड़न से उपयुक्त)


प्रकार्य

  • विद्यार्थी से लिखित शिकायत प्राप्त होने के बाद तत्परता से 15 दिनों के अंदर ही उनपर ध्यान दिया जाएगा यह समिति प्रारंभ में प्रत्येक मामले की समीक्षा करेगी तथा बाद में तदनुसार कार्रवाई करेगी
  • यह समिति अपने द्वारा ध्यान दिए गए मामलों के बारे में तथा उन विलंबित मामले अगर कोई हो, जिनके बारे में उच्चतर प्राधिकारियों से निदेश तथा मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है, उनके बारे में प्राधिकारियों को अपनी रिपोर्ट देगी
  • यह समिति उन मामलों पर कार्रवाई करेगी, जिन्हें आवश्यक प्रलेखों के साथ उन्हें प्रेषित किए जाते हैं
  • यह शिकायत समिति यह सुनिश्चित करेगी कि शिकायत का समाधान (निराकरण) निर्धारित समय (एक महीने) के अंदर ही ठीक से किया गया है

टिप्पणी : प्रकोप (भावावेश) किसी भी रूप में कठोरता से निषिद्ध है प्रकोप (भावावेश) या अनुशासनिक नियमों के उल्लंघन को संकायाध्यक्ष (डीन) (शैक्षिक) के ध्यान में तुरंत ही लाया जाएगा

Prevention of Caste Based Discrimination

NAME POSITION
Prof. Hemalatha Balaram Chairperson
Prof. M Eswaramoorthy Member
Prof. Jayanta Haldar Member
Dr. Panneer Selvam K Member
Mrs. Chitra C S Member-Secretary

14/9/2020 of University Grants Commission.   

Scope       

Discrimination on the basis of caste is prohibited at this institution. The University Grants Commission (UGC ) has directed the Universities/Institutions to develop a  page on website for lodging complaints of caste discrimination by SC/ST students and to constitute a Committee to look into the discriminating complaints received from the SC/ST/OBC students, teaching and non-teaching staff.  

In terms of the UGC letter, a Committee has been constituted to address issues relating to caste discriminating complaints within the Centre and to submit a report with suggestions. The Committee proactively works towards caste based discrimination policies, sensitization programmes, procedure for lodging complaints, and grievance redressal. 

 Objectives:

  1. To ensure that no official or faculty member indulge in any kind of discrimination against any community or category of students, faculty or staff members.
  2. To sensitize officials/ faculty members of the Centre while dealing with incidents of caste discrimination.   
  3.  To ensure that the officials/faculty members should desist from any act of discrimination of SC/ST students, on grounds of their social origin.

Procedure for lodging complaint

  • A complaint about caste discrimination may be made in writing by the student/ faculty members or staff to the PCD Committee.
  • The written complaint should be submitted to either the Chairperson or the Secretary of the Committee.
  • The complaint shall include sufficient details of the alleged act of discrimination  
  • On receipt of a written complaint, the Committee shall initiate the follow-up action, including preliminary fact-finding enquiry.

Redressal

  • The Committee will hear and address complaints regarding caste-based discrimination received at the Centre, in writing.
  • The pursuit of the Committee is a time-bound activity and requires actions that would need to be initiated whenever necessary.  
  • The Committee will make recommendations to the President/Authorities of the Centre, based on observations and examination of complaints.
  • Based on the Committee’s recommendation, the President shall give the final decision or may further institute an Enquiry Committee, if required and deemed fit, for further examination of such complaints.
  • The Committee shall follow relevant Acts and Rules of Government of India and Court Orders etc. as applicable from time to time during redressal.
  • The President may invite additional members if required, and shall remove such persons from the Committee, if the complaint is received against those existing members.